Bhojpuri

विनम्र श्रद्धांजलि : अनुभूति शांडिल्य ‘तिस्ता’

स्मृति शेष : अनुभूति शांडिल्य ‘तिस्ता’ अइसना समय में जब भोजपुरी मतलब अश्लीलता के धारणा बन गइल होखे आ एकरा के आधार बना के भोजपुरी लोककला के नकार देवे के साजिश हो रहल होखे, ओइसना में अनुभूति शांडिल्य के पारंपरिक व्यासशैली में वीर कुँअर सिंह के लोकगाथा के प्रस्तुति सुखद ‘अनुभूति’ के प्रतीक बन गइल […]