डोगरी गीत

डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

पलेआ मठोआ तेरै अंगन पसार।
तेरे कोला थ्होआ सारी दुनिया दा प्यार।।
हड्ड मास साढ़ी जिंद जान डोगरी।
डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

तेरे कन्नै प्हाड़ें दा शंगार डोगरी।
तेरे कन्नै सोभदी ऐ ब्हार डोगरी।।
कोयलै बी लाई मिट्ठी तान डोगरी।
डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

तुऐं मिगी दित्ती पनछान डोगरी।
ज़िंदगी च बस्सी बनी प्राण डोगरी।।
साढ़ा ख़ान पान ते ऐ लान डोगरी।
डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

माऊ दी ऐ मिट्ठड़ी जवान डोगरी।
बच्चे कैह्सी बोलदे त्राह्न डोगरी।।
घरै च बनी अनजान डोगरी।
डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

आओ गास डोगरी दा झंडा चाढ़चै ।
उच्चड़े संघासनै प इसी ब्हालचै।।
करी सकै पुत्तरें प मान डोगरी।
डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

डोगरें दी वीरता दा मान डोगरी।
सच्च पुच्छो साढ़ी ऐ पनछान डोगरी।।

**** यशपाल निर्मल ****

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required